February 22, 2024
Jharkhand News24
जिला

टीबी उन्मूलन को लेकर यक्ष्मा केंद्र गुमला के द्वारा रिच संस्था के बैनर तले मीडिया के संग कार्यशाला का किया गया आयोजन

Advertisement

टीबी उन्मूलन को लेकर यक्ष्मा केंद्र गुमला के द्वारा रिच संस्था के बैनर तले मीडिया के संग कार्यशाला का किया गया आयोजन

सुधाकर कुमार गुमला

Advertisement

लोहरदगा रोड स्थित सुहागी कंप्लेस के सभागार में रिच संस्था के बैनर तले यक्ष्मा केंद्र गुमला के पदाधिकारियों द्वारा टीवी उन्मूलन को लेकर पत्रकारों के साथ संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पत्रकारों को बताया गया कि सरकार किस तरह टीवी उन्मूलन को लेकर कार्य कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा 2025 तक टीबी उन्मूलन का लक्ष्य रखा गया है। कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए गुमला जिला रणनीतिकार राहुल शेखर ने मीडिया को बताया कि टीवी रोग क्या है यह किस प्रकार फैलती है टीवी रोग से कौन-कौन प्रभावित हो सकते हैं और इसका विधिवत इलाज क्या है? इसके बारे में विस्तार पूर्वक बताया। उन्होंने जिले के प्रकार बंधुओं से अपील की टीवी उन्मूलन को लेकर संस्था व विभाग का सहयोग करें ताकि गुमला जिले में टीवी रोग को जड़ से उखाड़ फेंका जाए। उन्होंने बताया टीवी एक गंभीर बीमारी है लेकिन विधिवत इलाज से इस रोक को समाप्त किया जा सकता है। विश्व में गंभीर बीमारियों से मरने वालों की संख्या में टीवी 10 नंबर पर है। पूरे विश्व में 52 सौ लोग प्रतिवर्ष टीवी से मरते हैं जबकि भारत में 14 00 लोगों की मृत्यु होती हैl सरकार इसकी रोकथाम के लिए प्रतिबद्ध है और टीवी के वैक्सीन की ओर सरकार काम कर रही है। कार्यक्रम में उपस्थित के के मिश्रा ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए बताया एक सर्वे के अनुसार 60% लोगों को पता नहीं कि टीवी क्या है। उन्होंने बताया टीवी एक संक्रमित बीमारी है। एक मरीज 1 वर्ष में 20 लोगों को संक्रमित कर सकता है। टीवी का मूल कारण नशा पान है। टीवी ग्रसित मरीजों को 6 महीना में ₹3750 सरकार द्वारा मिलता है।
रिच के स्टेट हेड प्रणव झा ने बताया कि टीवी उन्मूलन को लेकर सरकार गंभीर है इसको लेकर पंचायत स्तर पर सरकार काम करने की सोच रही है। टीवी चैंपियनो से ब्लॉक लेवल पर काम कराया जा रहा है। उन्होंने बताया टीवी मरीजों को पूरी तरह से 6 माह का नियमित रूप से दवा का सेवन करना अनिवार्य है। उन्होंने टीवी के लक्षण के बारे में बताया 2 सप्ताह से अधिक समय तक खांसी, बलगम में रक्त, बुखार, छाती में दर्द, भूख न लगना, वजन कम होना, सांस फूलना, रात को पसीना आना इत्यादि है। उन्होंने बताया कि टीवी से प्रभावित लोगों के घरों में साथ रहने वाले को भी टीबी की जांच करानी चाहिए। सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में टीवी की जांच और दवा मुफ्त में दी जाती है। कार्यक्रम में टीवी उन्मूलन पदाधिकारी केके मिश्रा, रिच के स्टेट हेड प्रणव झा, जिला रणनीतिकार राहुल शेखर, टीवी चैंपियन निर्मल केरकेट्टा, मुकेश साहू, जिला यक्ष्मा केंद्र के कर्मचारी मुकेश कुमार, उदय प्रताप ओहदार, एसटीएस अमित कुमार, मोहम्मद अहसान के अलावा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं प्रिंट मीडिया के पत्रकार उपस्थित थे।

Related posts

विजली की शॉट सर्किट घर और किराना दुकान में लगी आग हजारो की समान जल कर हुआ राख

hansraj

अनिल कुमार मेहता 10 वोट से विजयी प्राप्त कर बने डाँड़ के उप मुखिया

hansraj

इंडियन आर्ट्स अकैडमी के बच्चों ने लहराया परचम

hansraj

दुलमाहा के बढिवाटांड दलित मुहल्ला का ट्रांसफार्मर जलने से लोग अंधेरे में रहने को मजबूर

hansraj

25 सालों से हजारीबाग के कल्लू चौक स्थित चर्चित प्रतिष्ठान केशरी स्वीट्स एवं बेकरी अब नए स्वरूप में ग्राहकों को देगा सेवा

hansraj

राजद का कुंडहित प्रखंड अध्यक्ष राजेश हेंब्रम को बनाया गया

hansraj

Leave a Comment